Rula Dene Wali Shayari | रुला देने वाली हिंदी शायरी

रुला देने वाली शायरी (Rula Dene Wali Shayari) एक ऐसी शायरी (Shayari) जो आपके दिल को छू लेगी , कोई प्यार में रोता  है कोई व्यापार में रोता है , प्यार भी एक अजीब एहसास है , जब दिल टूटता है तो दिल के अरमान टूट जाते है , ऐसा लगता है कोई दिल से टूट कर गिर गया हो , आज हम ऐसी ही हिंदी शायरी (Hindi Shayari) की बात करेंगे जो आप को सच में रुला (Rula)देगी , आज हम आपके लिए रुला देने वाली हिंदी शायरी (Rula Dene Wali Hindi Shayari) लेकर आये है , यहाँ आप रुला देने वाली शायरी इमेजेज डाउनलोड(Rula Dene Wali Shayari Images Download) कर सकते है , यह एक दर्द भरी हिंदी शायरी(Dard Bhari Hindi Shayari) का खज़ाना है , यह हिंदी शायरी की बेस्ट कलेक्शन (Hindi Shayari Best Collection) है , तो चलिए पढ़ते है रुला देने वाली शायरी (Rula Dene Wali Shayari), दर्द भरी शायरी(Dard Bhari Shayari) , साद शायरी हिंदी (Sad Shayari Hindi) , हिंदी साद कोट्स(Hindi Sad Quotes), #HindiShayari …
Rula Dene Wali Hindi Shayari
“नाराज क्यों होते हो, चले जायेंगे बहुत दूर,
जरा टूटे हुए दिल के टुकड़े तो उठा लेने दो..”

“Naraj Kyu Hote Ho Chale Jayenge Bahut Dur, Jara Tute Hue Dil Ke Tukde To Utha Lene Do..”

“कौन हूँ मैं…. ऐ जिंदगी तू ही बता,
थक गया हूँ मैं खुद का पता ढूँढते ढूंढ़ते..”

“Kon Hu Main… Ae Zindagi Tu Hi Bta, Thak Gya Hu Khud Ka Pata Dhudte Dhudte..” 


“पूछा था हाल उन्होंने मेरा बड़ी मुद्दतों के बाद, 
कुछ गिर गया है आँख में, कह कर हम रो पड़े..” 


“Poochha tha haal unhonne mera Badee muddaton ke baad, 
Kuchh gir gaya hai aankh mein, Kah kar ham ro pade..” 


“जरा सा भी नही पिघलता दिल तेरा, 
इतना क़ीमती पत्थर कहाँ से ख़रीदा..” 


“Jara Sa Bhi Nahi Pighalta Dil Tera, 
Itna Keemti Patthar Kahan Se Khareeda..”  


“जख्म देकर ना पूछा करो दर्द की शिद्दत, 
दर्द तो दर्द होता है, 
थोड़ा क्या, ज्यादा क्या..” 


“Jakhm dekar na poochha karo Dard kee shiddat, 
Dard to dard hota hai, 
Thoda kya, jyaada kya..” 



“मुझको ढूंढ लेती है रोज एक नए बहाने से 
तेरी याद वाकिफ हो गयी है मेरे हर ठिकाने से..” 


“Mujhako dhoondh letee hai roj ek nae bahaane se 
Teree yaad vaakif ho gayee hai mere har thikaane se..” 


“दिल का दर्द हमारा भी 
अब सारी हदें आर पार कर रहा है, 
दिलबर भी कितना संगदिल है 
एक जुर्म को बार बार कर रहा है..” 


“Dil ka dard hamaara bhee 
Ab Saaree haden aar paar kar raha hai, 
Dilabar bhee kitana sangadil hai 
Ek jurm ko baar baar kar raha hai..” 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *